क़ुरआनी आयात और अहादीसे नबविययह के एप्लीकेशन मोबाइल से मिटाने (Delete) करने का क्या हुक़्म हैं?

1
686
Quraani ayaat aur ahadeese Nabweeyyah Ke Application Mobile Se (delete) karne ka huqm hai?
makka
Islamic Palace App

Quraani ayaat aur ahadeese Nabweeyyah Ke Application Mobile Se (delete) karne ka huqm hai?

क़ुरआनी आयात और अहादीसे नबविययह के एप्लीकेशन मोबाइल से मिटाने (Delete) करने का क्या हुक़्म हैं?

क़ुरआनी आयात और अहादीसे नबविययह के एप्लीकेशन इंस्टोल करने या Pdf की सूरत में डाउनलोड करने

या मेसेज के लिहाज़ से सेव करने के बाद मिटाने (Delete) के मुताल्लिक़ शये एतिबार से क्या हुक़्म हैं?

क़ुरआनी आयात और अहादीसे नबविययह के एप्लीकेशन,

Pdf बुक्स और मेसेज मोबाइल फ़ोन और कम्प्यूटर्स में सेव करने के बाद डिलीट करने में कोई क़बाहत नहीं,

क्योंकी जब दरोदीवार पर लिखे हुए इसमें बारी तआला के मिटने (Delete) की इजाज़त हैं,

जिसमें बे-अदबी का शैबा भी हैं तो मोबाइल फ़ोन में मेसेज वग़ैरह मिटाने (डिलीट) में क्या हरज हैं,

जिसमें ये एहतिमाल भी नहीं,

लिहाज़ा ऐसे मेसेज, अप्लीकेशन और Pdf बुक्स मिटाने (Delete) में शरन कोई क़बाहत नहीं,

इस लिए बिला वजह शुकूक शुभात में, फेरने से एहतिराज़ करना चाहिए,

चुनांचे दूररे मुख़्तार में मज़कूर हैं के वो किताबें जो ग़ैर मुनतफी हैं,

उन में से अल्लाह का, फरिश्तों और रसूलों का नाम मिटा दिया जाये।

(वल्लाहु तआला आलम)

(दारूल इफ्ता वल-क़ज़ा, जामिआ बिनोरिआ)


Read More

तवाफ़ या सअ’ये के चक्करों में शक हो जाये तो क्या करे?

उमरा का मुक़म्मल तरीक़ा क्या है?


Follow Us

हमारा फेसबुक पेज लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें…

अल्लाह तआला रब्बुल अज़ीम हम सब मुसलमान भाइयों को कहने, सुनने और सिर्फ पढ़ने से ज्यादा अमल करने की तौफीक अता फ़रमाये और हमारे रसूल  नबी ए करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की बताई हुई सुन्नतों और उनके बताये हुए रास्ते पर हम सबको चलने की तौफीक अता फ़रमाये (आमीन)।

ISLAMIC PALACE को लाइक करने के लिए आप सभी का बहुत-बहुत शुक्रिया। जिन्होंने लाइक नहीं किया तो वह इसी तरह की दीन और इस्लाम से जुड़ी हर अहम बातों से रूबरू होने के लिए हमारे इस पेज Islamic Palace को ज़रूर लाइक करें, और ज़्यादा से ज़्यादा लोगों को शेयर के ज़रिये पहुंचाए। शुक्रिया


For More Msgs Click This Link
www.islamicpalace.in

बराये करम इस पैग़ाम को शेयर कीजिये अल्लाह आपको इसका अजर-ए-अज़ीम ज़रूर देगा
आमीन

►जज़ाकअल्लाह खैरन◄

PLEASE SHARE

1 COMMENT

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.