क़यामत के दिन लोगों में से सबसे बड़ा खुश नसीब कौन होगा

3
376
Maut Ke Waqt Shaitan Se Bachne Ki Dua
madina-shareef
Islamic Palace App

Qayamat Ke Din Logon Mein Se Sabse Bada Khush Naseeb Kaun Hoga

क़यामत के दिन लोगों में से सबसे बड़ा खुश नसीब कौन होगा

बिस्मिल्लाह हिर्रहमान निर्रहीम

हज़रत अबू हुरैरह रदि अल्लाहु अन्हु का बयान है के मैंने रसूल अल्लाह (सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम) से पुछा:
“क़यामत के दिन लोगों में से सबसे बड़ा खुश नसीब कौन होगा जिसके हक़ में आप शफ़ाअत करेंगे?

तो आप (सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम) ने फ़रमाया:

ऐ अबू हुरैरह!
मुझे यक़ीन था के इस बारे तुम ही सवाल करोगे क्यूंकि तुम्हे हदीस सुनने का ज़्यादा शौक़ रहता है. तो सुनो क़यामत के दिन मेरी शफ़ाअत की सआदत उस शक्श को नसीब होगी जिसने अपने दिल की गहरायिओं से इखलास के साथ

” لا اله إلا الله “ कहा हो…

{बुखारी: 99}
{बुखारी: 6570}

हज़रत अबू हुरैरा रदि अल्लाह अन्हा कहते हैं रसूल (सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम) ने फ़रमाया, हर नबी के लिए एक दुआ ऐसी है जो ज़रूर क़बूल होती है तमाम अम्बिया ने वो दुआ दुनिआ मैं ही माँगली, लेकिन मैं ने अपनी दुआ क़यामत के दिन अपनी उम्मत की शफ़ाअत के लिए मेहफ़ूज़ कर रखी है, मेरी शफ़ाअत इंशाअल्लाह हर उस शख्स के लिए होगी जो इस हाल मैं मारा के उसने किसी को अल्लाह के साथ शरीक नहीं किया…

{सहीह मुस्लिम, किताब अल-ईमान, हदीस 399}

Read More:

जो लोग इंसाफ करते हैं वो अल्लाह सुब्हानहु के यहाँ…

अल्लाह की इताअत करते हुए तौबा करली तो वादा इलाही ज़रूर पालोगे


Follow Us

हमारा फेसबुक पेज लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें

अल्लाह तआला रब्बुल अज़ीम हम सब मुसलमान भाइयों को कहने, सुनने और सिर्फ पढ़ने से ज्यादा अमल करने की तौफीक अता फ़रमाये और हमारे रसूल  नबी ए करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की बताई हुई सुन्नतों और उनके बताये हुए रास्ते पर हम सबको चलने की तौफीक अता फ़रमाये (आमीन)।

ISLAMIC PALACE को लाइक करने के लिए आप सभी का बहुत-बहुत शुक्रिया। जिन्होंने लाइक नहीं किया तो वह इसी तरह की दीन और इस्लाम से जुड़ी हर अहम बातों से रूबरू होने के लिए हमारे इस पेज Islamic Palace को ज़रूर लाइक करें, और ज़्यादा से ज़्यादा लोगों को शेयर के ज़रिये पहुंचाए। शुक्रिया

For More Msgs Click This Link
www.islamicpalace.in

बराये करम इस पैग़ाम को शेयर कीजिये अल्लाह आपको इसका अजरअज़ीम ज़रूर देगा
आमीन

►जज़ाकअल्लाह खैरन◄

PLEASE SHARE